Jodhpur: लोक देवता बाबा रामदेव के प्रकटोत्सव पर मगला आरती, पुलिस ने तमाम रास्ते किए सील जाने पूरी न्यूज़

Jodhpur: लोक देवता बाबा रामदेव के प्रकटोत्सव पर मगला आरती, पुलिस ने तमाम रास्ते किए सील जाने पूरी न्यूज़



जोधपुर, 8 सितम्बर। जोधपुर में लोक देवता बाबा रामदेव का प्रकटोत्सव में मनाया जा रहा है। अलसुबह मसूरिया मंदिर में मंगलाआरती हुई, जिसमें पुजारियों ने कोरोना से मुक्ति की कामना की।

इसके बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए। इस बार कोविड की तीसरी लहर की आशंका में फिर से मेला स्थगित कर दिया गया है। लेकिन रात तक बाबा के भक्तजनों का आना जारी रहा। वैसे पुलिस ने भक्तों के आने के रास्तों को अब पूरी तरह सील कर दिया है। मंदिर तक पहुंचने वाले लोग भी चौखट पर ही मन्नत के धागे बांध कर निकल रहे हैं। स्थानीय लोगों को भी दर्शन लाभ नहीं हो पाया। मंगलाआरती का ऑनलाइन दर्शन करवाया गया। रामदेवरा में भी कमोबेश यही स्थिति थी। मेला स्थगन के बाद भक्तों के आने का सिलसिला लगभग थम चुका है।



बाबा के गुरू बालीनाथ गोसाईजी की समाधिस्थल जोधपुर के मसूरिया पहाड़ी पर मंदिर में सुबह मंगलाआरती का आयोजन किया गया। पाबंदियों की वजह से मंदिर में गिने चुने ही पुजारी ही नजर आए। बाद में मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए। कोविड की तीसरी लहर की आशंका से प्रशासन ने मेला स्थगित कर रखा है। मंदिर प्रशासन ने अलसुबह महाआरती के दर्शन लाभ के लिए वेबसाइट पर इसकी व्यवस्था की। रामदेवरा में भी मेला नहीं लगने दिया गया। मसूरिया मंदिर के बाहर गेट पर और आस पास के रास्तों पर पुलिस का पहरा लगा हुआ है और गेट भी बंद है। ऐसे में रात को भी जातरूओं को गेट पर ही मन्नत के धागे बांध कर संतुष्ट होना पड़ा।



पिछले दो साल से कोरोना संक्रमण ने इस मेला पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा रखा है। राजस्थान के अलावा मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और बिहार से जातरूओं के आने का सिलसिला महीने भर पहले ही शुरू हो जाता है। जातरू हजारों कोस पैदल चलकर बाबा के दर्शन को आते हैं। मगर इस बार भी जिला प्रशासन के साथ रामदेवरा मेला कमेटी ने भी कोविड की तीसरी लहर की आशंका में कुछ दिन पहले ही मेला स्थगित कर दिया था। बाहर से आने वाले जातरूओं को नाकों पर रोकने के आदेश भी जारी हुए थे। तब से पुलिस ने नाकों पर मोर्चा संभाले रखा है और जातरूओं के आने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

टिप्पणियाँ